Friday, June 14, 2013

Junbishen 30


नज़्म 

अपील

लिपटे-लिपटे सदियाँ गुज़रीं, वहेम् की इन मीनारों से ,
मन्दिर, मस्जिद, गिरजा, मठ और दरबारी दीवारों से ,
अन्याई उपदेशों से, और कपट भरे उपचारों से ,
दोज़ख, जन्नत की कल्पित, इन अंगारों ,उपहारों से .

बहुत अनोखा जीवन है ये, इन पर मत बरबाद करो ,
माज़ी के हैं मुर्दे ये सब, इनको मुर्दाबाद करो ,
इनका मंतर उनका छू, निज भाषा में अनुवाद करो .
निजता का काबा काशी, निज चिंतन में आबाद करो.

3 comments:

  1. कहीं नहीं जब अमनो-अमान, अमाँ काबा काशी क्या कीजै..,
    रही नहीं जब कौल अमीन, अमाँ लेके शाबाशी क्या कीजै.....

    अमनो-अमान = सुव्यवस्था
    अमीन = विश्वसनीय

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete