Thursday, June 14, 2012

Rubaaiyan


तुम भी जो अगर सोचो, विचारो तो सुनो, 
अब्हाम के शैतान को मरो तो सुनो,
कुछ लोग बनाते हैं तुम्हें अपना सा ,
खुद अपना सा बनना है जो यारो तो सुनो.
*
बच्चे को बसद शान ही बनने न दिया,
बस साहिबे इमान ही बनने नदिया,
पैदा होते ही कानों फूंक दिया झूट,
इन्सान को इन्सान ही बनने न दिया. 
*
ये लाडले, प्यारे ये दुलारे मज़हब,
धरती पे बड़ा झूट हैं सारे मज़हब, 
मंसूर हों, तबरेज़ हों या फिर सरमद,
इंसान को हर हाल में मारे मज़हब. 
*
हैवान हुवा क्यों न भला तख्ताए मश्क़,
इंसान का होना है रजाए अहमक़, 
शैतान करता फिरे इंसान से गुनाह,
अल्लाह करता रहे उठ्ठक बैठक.
*

1 comment:

  1. बहुत खूब..................

    अनु

    ReplyDelete